Wo kichad mein chapak se koodna
Wo gili mitti ko hathon se ragadna
Wo kaghaz ki kashti bana kar, pani ke relon mein bahana
Wo dur tak jaana doobi kashti ko uthana phir se bahana
Ankhon ko band kar paani ki boondon ko jeebh par lana
Wo salakhon ko mitti mein gadana
Wo barsati pehenkar zabardasti bahar jana
Garam chai ke sath pakodon ka maza lena
Wo bartan ka rakhna wo kapde bhigana
Wo baucharon se bachna peeche ho jaana
Wo gile parindon ko hathon mein rakh kar
Kabhi choonch pakadna kabhi gardan sehlana
Saath chalte chalte dheere se chaata hatana
Wo nange paon hathon mein chappal liye bhaagna
Chalo aaj phir barish mein safar karte hain
Kuch guzre waqt ko phir taaza karte hain…
चलो आज फिर बारिश में सफर करते हैं
सूखे अरमान को पानी से गीला करते हैं
वो कीचड़ में छपाक से कूदना
वो गीली मिटटी को हाथों से रगड़ना
वो काग़ज़ की कश्ती बनाकर, पानी के रेलों में बहना
वो दूर तक जाना डूबी कश्ती को उठाना फिर से बहना
आँखों को बंद कर पानी की बूँदों को जीभ पर लाना
वो सलाखों को मिटटी में गड़ना
वो बरसाती पहनकर ज़बरदस्ती बहार जाना
गरम चाय के साथ पकोड़ों का मज़ा लेना
वो बर्तन का रखना वो कपडे भीगना
वो बौछारों से बचना पीछे हो जाना
वो गीले परिंदों को हाथों में रख कर
कभी चोंच पकड़ना कभी गर्दन सहलाना
साथ चलते चलते धीरे से छाता हटना
वो नंगे पाओं हाथों में चपपल लिए भागना
चलो आज फिर बारिश में सफर करते हैं
कुछ गुज़रे वक़्त को फिर ताज़ा करते हैं …

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.